Friday, April 16, 2010

हमको क्या मालूम था होता हैं दर्द क्या 
यह भी था इतेफाक की हम तुमसे मिले कभी 

1 comment: