Tuesday, April 13, 2010

एक हम है की मान बैठे है उन्हें हकीकत अपनी
 एक वो है जो हमें ख्वाबों में भी गवारा नहीं करते...

4 comments:

  1. आओ मित्र ! स्वागत है तुम्हारा हमारे गरीबखाने में, तुमारी प्रोफाइल हर दिल का इलाज और इंजेकशन हैं ...........और ये दो लाइन ..............

    ReplyDelete
  2. yaar ye word verification hata do ye aadmi ko comments karne se rokta hain kambhat

    ReplyDelete
  3. कहाँ थे मित्र दो दिन से :)

    ReplyDelete